About Us


बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं। लेकिन यहां से 60 किलोमीटर दूर गोपालगंज जिले में जन्म और शिक्षा। गोपालगंज जिला तथागत बुद्ध की ज्ञानस्थली बोद्धगया से 250 किलोमीटर और उनके परिनिर्वाण भूमि कुशीनगर से 70 किलोमीटर दूर स्थित है। गोपालगंज कॉलेज से ही राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।


मुख्य धारा की मीडिया में वंचित समाज के मुद्दों की अनदेखी और उनकी खबरों को गंभीरता से पेश नहीं करने की वजह से वैकल्पिक मीडिया की जरूरत को महसूस किया। इसी के तहत साल 2010 में www.dalitmat.com (दलितमत.कॉम) नाम से वेबसाइट का संचालन शुरू किया। देश-विदेश से पाठकों की साकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने के बाद यह कारवां आगे बढ़ा और 27 मई 2012 को “दलित दस्तक” नाम से मासिक पत्रिका का प्रकाशन शुरू किया। वर्तमान में पूरी तरह से दलित दस्तक के प्रमुख संपादक और प्रकाशक के रूप में सक्रिय। 25 राज्य में दो लाख से ज्यादा पाठक संख्या के साथ पत्रिका अपने पांचवें वर्ष में प्रवेश कर चुकी है। साथ ही ‘दास पब्लिकेशन’ के जरिए प्रकाशन के क्षेत्र में सक्रिय। इसके अलावा‘दलित मत’ और ‘दलित दस्तक’ (www.dalitdastak.com) वेबसाइट का संचालन। आने वाले दिनों में बहुजन समाज को केंद्र में रखकर एक दैनिक अखबार निकालना चाहता हूं। आजादी के इतने सालों बाद भी मीडिया में हमारी सशक्त उपस्थिति नहीं है, इसी दिशा में ज्यादा से ज्यादा काम करना चाहता हूं।